Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

भारत को रियो ओलंपिक से ठीक पहले एक बड़ा झटका लगा है। नरसिंह यादव के बाद उनके रूममेट यानि एक ही कमरे में रहने वाली साथी संदीप तुलसी यादव के भी डोप टेस्ट में पॉजिटिव पाये जाने के बाद अब  मामला शक के घेरे में आ गया है। मामले में साजिश के होने से इंकार नहीं किया जा सकता है। अपने रूममेट के डोप पॉजिटिव पाये जाने को आधार बनाते हुए नरसिंह  ने अपने खिलाफ भी साजिश होने की बात की है।

भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष ब्रजभूषण शरण सिंह ने भी नरसिंह के समर्थन  करते हुए पूरे मामले की जांच की मांग की है। ब्रजभूषण शरण सिंह ने भी साजिश होने का संदेह जताया है।  खेल मंत्री विजय गोयल ने भी सामने आकर इस मामले में अपना पक्ष रखा और मामले की जांच पूरी होने के बाद कार्यवाही करने का भरोसा दिया।

न्यूज़ चैनलों और सोशल मीडिया पर भी यह मामला जोरों से उठाया जा रहा है। आम  लोग भी अब नरसिंह का समर्थन कर रहे है। नरसिंह ने भी एक समाचार एजेंसी को बताया कि वो बेकसूर है और उन्हें फ़साने की कोशिश की जा रही है। पहलवान नरसिंह यादव ने कहा की  “15 सालो से वो कुश्ती कर रहे है और कभी किसी प्रतिवंधित दवाई का प्रयोग नही किया। आज जब मैं जब रियो के लिए चुना जा चुका हूं तो फिर ऐसा क्यों करूँगा। मेरे खिलाफ साजिश है और इसकी सीबीआई जाच होनी चाहिए।” नरसिंह ने भारतीय ओलंपिक असोसिएशन, देश की जनता और सरकार से समर्थन की उम्मीद जताई है।

नरसिंह का रियो के लिए चयन भी विवादित हालातों में हुआ था। न्यायपालिका के हस्तक्षेप के सुशील कुमार पर उनको तरजीह देते हुए उनका चयन किया गया था।  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी मामले की गंभीरता देखते हुए पूरी रिपोर्ट तलब की है। यह मामला देश के सम्मान और नरसिंह के भविष्य को ध्यान रखते हुए काफी अहम है।

अगर इस मामले में साजिश की बात सामने आती है तो यह बहुत ही शर्म की बात होगी। क्रिकेट में मैच फिक्सिंग के बाद भारत में खेलो के क्षेत्र में यह सबसे बड़ा षड़यंत्र होगा।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.